गुरुवार, 13 जुलाई 2017

अब के सजन सावन में

सादर अभिवादन
सावन मनभावन
आज का गीत कुछ यूँ है...

अब के सजन सावन में
आग लगेगी बदन में
घटा बरसेगी, मगर तरसेगी नज़र
मिल न सकेंगे दो मन
एक ही आँगन में
अब के सजन सावन...




आज बहुत ढूँढी...
साज में इस गीत का लिंक नहीं मिला
मलाल रहेगा मुझे
सादर

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

मोहब्बत बरसा देना तू...

सादर नमस्कार.. सावनी गीत में आज मोहब्बत बरसा देना तू, सावन आया है तेरे और मेरे मिलने का, मौसम आया है सबसे छुपा के तुझे सीने से ल...