गुरुवार, 17 सितंबर 2020

तू छुपी है कहाँ मैं तड़पता यहां ...फिल्म नवरंग

 तू छुपी है कहाँ मैं तड़पता यहां

तेरे बिन फीका फीका है दिल का जहां

तू छुपी है कहाँ मैं तड़पता यहां

तू गयी उड़ गया रंग जाने कहाँ

तेरे बिन फीका फीका है दिल का जहां

तू छुपी है कहाँ मैं तड़पता यहां


यही गीत संतोष बैण्ड द्वारा

सादर


15 टिप्‍पणियां:

  1. सुन कर मन प्रसन्न हुआ । शुभकामना ।

    जवाब देंहटाएं
  2. बीते हुए ज़माने की महक आज भी बाकी है । गीत को साझा करने के लिए साधुवाद आपका ।

    जवाब देंहटाएं
  3. पुराने गीतों की बात ही कुछ और है। बहुत सुंदर।

    जवाब देंहटाएं
  4. सदाबहार नग़्में old is gold , क्या गाने बनते रहे ,शुक्रिया यशोदा जी सांझा करने के लिए

    जवाब देंहटाएं
  5. This is really fantastic website list and I have bookmark you site to come again and again. Please read mine as well. birthday countdown quotes

    जवाब देंहटाएं
  6. सच में पुराने नग्मों की बात ही कुछ ओर है ।

    जवाब देंहटाएं
  7. अलग ढंग से गाया गया बहुत ही प्यारा गीत है यह, मेरी पसन्द का😊। साझा करने के लिए हार्दिक धन्यवाद!

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आभार..
      समयाभाव मजबूर कर देता है
      नहीं तो सारे गीत सुनवा दूँ
      सादर नमन

      हटाएं
  8. उम्मीद करते हैं आप अच्छे होंगे

    हमारी नयी पोर्टल Pub Dials में आपका स्वागत हैं
    आप इसमें अपनी प्रोफाइल बना के अपनी कविता , कहानी प्रकाशित कर सकते हैं, फ्रेंड बना सकते हैं, एक दूसरे की पोस्ट पे कमेंट भी कर सकते हैं,
    Create your profile now : Pub Dials

    जवाब देंहटाएं

तू छुपी है कहाँ मैं तड़पता यहां ...फिल्म नवरंग

 तू छुपी है कहाँ मैं तड़पता यहां तेरे बिन फीका फीका है दिल का जहां तू छुपी है कहाँ मैं तड़पता यहां तू गयी उड़ गया रंग जाने कहाँ तेरे बिन फीका फ...