शनिवार, 15 जुलाई 2017

मोहब्बत बरसा देना तू...

सादर नमस्कार..
सावनी गीत में आज
मोहब्बत बरसा देना तू, सावन आया है
तेरे और मेरे मिलने का, मौसम आया है

सबसे छुपा के तुझे सीने से लगाना है
प्यार में तेरे हद से गुज़र जाना है
इतना प्यार किसी पे, पहली बार आया है
मोहब्बत बरसा देना तू...


अब इसी गात को सुनिए गिटार में


सादर

3 टिप्‍पणियां:

  1. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    जवाब देंहटाएं
  2. बहुत बहुत बधाई इस रचना के लिए ,आपकी दी हुई लिंक नही खुल रही है,इस कारण से शामिल नही हो सकी ,मेरी रचना को शामिल करने के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद

    जवाब देंहटाएं

मोहब्बत बरसा देना तू...

सादर नमस्कार.. सावनी गीत में आज मोहब्बत बरसा देना तू, सावन आया है तेरे और मेरे मिलने का, मौसम आया है सबसे छुपा के तुझे सीने से ल...