गुरुवार, 13 जुलाई 2017

अब के सजन सावन में

सादर अभिवादन
सावन मनभावन
आज का गीत कुछ यूँ है...

अब के सजन सावन में
आग लगेगी बदन में
घटा बरसेगी, मगर तरसेगी नज़र
मिल न सकेंगे दो मन
एक ही आँगन में
अब के सजन सावन...




आज बहुत ढूँढी...
साज में इस गीत का लिंक नहीं मिला
मलाल रहेगा मुझे
सादर

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

तू छुपी है कहाँ मैं तड़पता यहां ...फिल्म नवरंग

 तू छुपी है कहाँ मैं तड़पता यहां तेरे बिन फीका फीका है दिल का जहां तू छुपी है कहाँ मैं तड़पता यहां तू गयी उड़ गया रंग जाने कहाँ तेरे बिन फीका फ...